Google+ Followers

Wednesday, 6 March 2013

एक गिरह.....

मुहब्बत के कुछ फूल
बड़ी हसरत से
दामन में बाँधे थे
वो कोना ....आंचल का
आज भी मुठ्ठी में दबाया है
जमाने की तपिश
दर्द की गिरफ्त
तुम्हारी तल्खियों से
अभी तलक इसे बचाया है
ज़िन्दगी के मिजाज़ ने
तोड़ डाले ....भरम सारे
न जाने क्यूँ ....
बस यही एक गिरह
खुल न सकी
मुरझाया ही सही ...
अभी तलक ....इक सपना
हथेली पे सजाया है

22 comments:

  1. बहुत उम्दा अभिव्यक्ति,,,शिखा जी

    Recent post: रंग,

    ReplyDelete
  2. bahut sunder abhivyakti shikha...pyaar bhi ,dard bhi..,sehensheelta bhi ...aur yaad bhi sab kuch hai is me...bahut bahut sunder

    ReplyDelete
  3. ना जाने क्यूँ बस यही एक गिरह खुल न सकी ..एक सपना अभी तक हथेली पे सजाया है ...बहुत सुन्दर प्रस्तुति शिखा :-)

    ReplyDelete
  4. मेरी नई कविता पर आपकी प्रतिक्रिया चाहती हूँ Os ki boond: सिरफिरा फूल ...

    ReplyDelete
  5. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति आज के ब्लॉग बुलेटिन पर |

    ReplyDelete
    Replies
    1. रचना को चुनने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद

      Delete
  6. बहुत सुंदर भावनायें और शब्द भी ...बेह्तरीन अभिव्यक्ति ...!!शुभकामनायें.
    आपका ब्लॉग देखा मैने और कुछ अपने विचारो से हमें भी अवगत करवाते रहिये.
    http://madan-saxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena.blogspot.in/
    http://madanmohansaxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena69.blogspot.in/

    ReplyDelete
  7. मुहब्बत के ये फूल कभी मुरझाएंगे नहीं ... बस खुशबू ही देंगे ...
    हथेली के सपने कभी तो पूरे होते हैं ...

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर प्रस्तुति शिखा जी !
    आप भी मेरे ब्लॉग का अनुशरण करें ,ख़ुशी होगी
    latest postअहम् का गुलाम (भाग एक )
    latest post होली

    ReplyDelete
  9. वाह बहुत खूबसूरती से रिश्तों की कशमकश बयान की है आपने। बहुत खूबसूरत और रूमानी नज़म। हर लफ्ज़ तराशा हुआ। पढ़ कर दिल खुश हो गया।।बहुत बहुत बधाई

    ReplyDelete
  10. अच्छा है जो यह गिरह नही खुली नही तो एक बार फिर दर्द बह उठता ......बहुत सुंदर रचना

    ReplyDelete
  11. आपकी यह बेहतरीन रचना शनिवार 09/03/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. रचना को चुनने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद

      Delete
  12. बहुत खूबसूरत, तुम्हारी तल्खियों से अभी तक बचाया है. बहुत अच्छे भाव.
    नीरज'नीर'
    KAVYA SUDHA (काव्य सुधा)

    ReplyDelete
  13. BEAUTIFUL LINES WITH EMOTIONS AND FEELINGS

    ReplyDelete
  14. वाह ... बहुत खूब

    ReplyDelete
  15. बहुत ही बढ़िया

    सादर

    ReplyDelete
  16. Umda bhao,mohabbat ke bakhan me lajawab rachna...
    Sadar

    ReplyDelete
  17. बहुत कोमल प्रस्तुति

    ReplyDelete
  18. उदास कर देने वाली रचना.

    ReplyDelete