Google+ Followers

Tuesday, 26 February 2013

क्या होता है सच ....वो जो इन्द्रियों के दायरे में होता है ...या कुछ और .....



ये सच ही क्यूँकर.....

दीवारों पे लिखे हों,पर
पढने में नहीं आते हैं.
ये सच ही क्यूँकर
अनपढ़ होते हैं.

सम्मुख हो कर भी ये
दृष्टि में नहीं समाते हैं.
ये सच ही क्यूँकर
ओझल होते हैं.

कानों में पड़ते सीसे से
मौन मगर रह जाते हैं.
ये सच ही क्यूँकर
गूंगे होते हैं.

अंतस कर जाते छलनी
असत्य ओढ़ जब आते हैं.
ये सच ही क्यूँकर
नादां होते हैं.

31 comments:

  1. अंतस कर जाते छलनी
    असत्य ओढ़ जब आते हैं.
    ये सच ही क्यूँकर
    नादां होते हैं.,,,

    लाजबाब बेहतरीन रचना,,,,

    Recent Post: कुछ तरस खाइये

    ReplyDelete
    Replies
    1. रचना पर आपका कमेन्ट पढ़कर बहुत ख़ुशी हुई ......ढेर सारा शुक्रिया
      मैं आपकी रचना पर पहले भी आ चुकी हूँ ...और कुछ लिखा भी है ... जरुर :)

      Delete
  2. शिखा जी बहुत मन से लिखी है आपने यह रचना गहन भाव पिरोयें हैं .

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत-बहुत शुक्रिया ....

      Delete

  3. दिनांक 28 /02/2013 को आपकी यह पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपकी प्रतिक्रिया का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. मुझे ये जानकार बहुत ही प्रसन्नता हो रही है कि आपको मेरी ये रचना उपरोक्त ब्लॉग पर प्रकाशित करने योग्य लगी। बहुत-बहुत शुक्रिया ......

      Delete
    2. आपके ब्लॉग पर अपनी रचना देख कर बहुत ख़ुशी हुई .....बहुत सारा धन्यवाद

      Delete
  4. कानों में पड़ते सीसे से
    मौन मगर रह जाते हैं.
    ये सच ही क्यूँकर
    गूंगे होते हैं.------jeevan ko aandolit kartey shabd
    sarthak rachna badhai

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत-बहुत शुक्रिया .....

      Delete
  5. अंतस कर जाते छलनी
    असत्य ओढ़ जब आते हैं.
    ये सच ही क्यूँकर
    नादां होते हैं.,,,
    बहुत ही बेहतरीन पंक्तियाँ है...
    बहुत सुन्दर रचना....

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत-बहुत शुक्रिया .....

      Delete
  6. सम्मुख हो कर भी ये
    दृष्टि में नहीं समाते हैं.
    ये सच ही क्यूँकर
    ओझल होते हैं.

    बहुत ही बेहतरीन रचना

    ReplyDelete
  7. गहरे सधे हुए भाव

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत-बहुत शुक्रिया .....

      Delete
  8. Bahut achcha laga padhke - yeh aur baaki bhi blog pe... saalon se hindi mein kuch zyada nahin padha aur in kavitaon mein soch gehri hai lekin phir bhi padhne mein saral hain :-).

    ReplyDelete
  9. बहुत उम्दा ..भाव पूर्ण रचना .. प्रेम को तो प्रेम ही समझ सकता है प्रेम से तो काली रात में भी उजाले का अहसास होता है

    आज की मेरी नई रचना जो आपकी प्रतिक्रिया का इंतजार कर रही है

    ये कैसी मोहब्बत है

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत-बहुत शुक्रिया .....

      Delete
  10. बहुत ही सुन्दर और सार्थक प्रस्तुति ...

    आप भी पधारें
    ये रिश्ते ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत-बहुत शुक्रिया .....

      Delete
  11. बेहतरीन रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत-बहुत शुक्रिया .....

      Delete
  12. एक अनुत्तरित स प्रश्न ..... बहुत सुन्दर!

    ReplyDelete
  13. बेहतरीन रचना

    ReplyDelete
  14. शिखा जी, दिल से लिखी गई आपकी कविताएं कुछ अलग पहचान बनाने वालीं हैं । भाव व शब्द बेहतरीन हैं । बस थोडा सा तराशने की जरूरत है ।

    ReplyDelete
  15. शिखा जी, दिल से लिखी गई आपकी कविताएं कुछ अलग पहचान बनाने वालीं हैं । भाव व शब्द बेहतरीन हैं । बस थोडा सा तराशने की जरूरत है ।

    ReplyDelete
  16. सम्मुख हो कर भी ये
    दृष्टि में नहीं समाते हैं.
    ये सच ही क्यूँकर
    ओझल होते हैं.
    बहुत सुन्दर सार्थक रचना ! ये सत्य असत्य की भूलभुलैया ही तो हमें भ्रमित किये रहती है ! बहुत अच्छी रचना ! शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  17. सच .... गूंगे लगते हैं,आत्मा के अन्दर हाहाकार करते हैं ..... बहुत अजीब स्थिति होती है सच की

    ReplyDelete
  18. बहुत अच्छा लिखा है.

    ReplyDelete
  19. शिखा जी ,
    सच को कोई पढना नहीं चाहता इसी लिए अनपढ़ रह जाते हैं .... बहुत गहन भाव लिए सुन्दर अभिव्यक्ति .

    मेरे ब्लॉग पर आने का शुक्रिया

    ReplyDelete
  20. bahut acha likha hai...shikha...satya hamesha peeche hi reh jata hai...aur jab aage aata hai to uska roop badal jata hai...jo hamesha dukhi hi karta hai..

    ReplyDelete