Google+ Followers

Sunday, 23 June 2013

धरती का रुदन



आज मद में चूर है 
कल रोयेगा ज़ार-ज़ार 
धरती के आंचल को यूँ 
ना कर तू तार-तार 
पर्वत-शिलायें कर देगीं 
अहम के टुकड़े हज़ार 
सागर भी लील जायेगा 
घमंड का कारोबार 
मरुभूमि के व्यंग का 
तब होगा कोई जवाब ?
नागफनी के फूलों से 
कब सजे किसी के ख्वाब !
सूरज का अट्टाहास जब 
भेदेगा तेरे कर्ण 
काँच से चुभ जायेगें 
रेत के भी तृण 
चांदनी भी मैली धूसर 
आग ही बरसायेगी 
उन्मत्त वायु प्रचंड तरंगें 
तन-मन झुलसा जायेगीं 
सूखे जल-प्रवाह से 
कैसे बुझेगी प्यास ?
ठूँठ हुये तट-बंधों पर 
कब तक पालेगा आस ?
धरती का रुदन ही फिर 
बन जायेगा श्राप 
बस पीड़ा संग होगी तेरे 
और होगा संताप 
कह पायेगा जीत इसको 
जब ख़ाली होगें हाथ !
सन्नाटों की बस्ती में 
फिर रोती होगी तान 
मत कर कोशिश बनने की तू 
जगत-पिता भगवान 
 कर ले जीवित मन में बस 
एक सच्चा इंसान .

15 comments:

  1. नमस्कार
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल सोमवार (24-06-2013) के :चर्चा मंच 1285 पर ,अपनी प्रतिक्रिया के लिए पधारें

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत-बहुत शुक्रिया

      Delete
  2. बहुत ही यथार्थ परक, सामयिक रचना . आपकी इस रचना के लिंक की प्रविष्टी सोमवार (24.06.2013) को ब्लॉग प्रसारण पर की जाएगी. कृपया पधारें .

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत-बहुत शुक्रिया

      Delete
  3. सटीक और सार्थक रचना ..... प्रकृति अभी यही सिखा रही है ।

    ReplyDelete
  4. इंसान को अपनी क्षमताओं का ज्ञान होना बहुत जरूरी है. और सच्चा इंसान होना बहुत मुश्किल. सुन्दर रचना.

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर कमाल की भावाव्यक्ति.

    ReplyDelete
  6. कर तो दिया तार-तार ,
    तभी तो रोता है अब
    जार जार |

    ReplyDelete
  7. सटीक रचना, आभार.. यहाँ भी पधारे http://shoryamalik.blogspot.in/2013/06/blog-post_21.html

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर सार्थक और सामयिक रचना ।

    ReplyDelete
  9. शिखा : समानुभूति. वृक्ष की शाखाओं का अगर कोई व्याकरण है और चिड़ियों की भाषा है तो यह उनका रुदनगान है. अंतिम दो पंक्ति मुखर लगती है....

    ReplyDelete
  10. इंसान बनना ही नहीं आता हमें ..

    मंगल कामनाएं आपकी कलम के लिए !

    ReplyDelete
  11. सच मेँ हम अगर सच्चे इन्सान बन जाएँ तो क्या बात है ! वही हम नहीँ बन पाते । खेद है । बधाई । सस्नेह

    ReplyDelete